मध्य प्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू

भोपाल। मध्य प्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू। देशभर में जहां किसान आंदोलन की जंग छिड़ी हुई है। वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदने की तैयारी पूरी कर ली है। न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी के लिए किसानों का रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। मध्य प्रदेश में इस बार 40 लाख टन धान समर्थन मूल्य पर खरीदी गई है।

पिछले साल के धान गोदामों में पड़े हुए हैं। जबकि इस साल के धान और नए गेहूं को सुरक्षित रखने के लिए गोदामों की कमी पड़ रही है। जिसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केंद्र सरकार से अपील की है कि धान का जल्द से जल्द उठाव कराया जाए। धान उठाव की गति धीमी होने की वजह से गोदाम खाली नहीं हो पा रहे है। जिससे नए अनाज को जगह मिलने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इधर परिवहन की गति को देखते हुए मार्च महीने से समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी की जाएगी।

न्यूनतम समर्थन मूल्य प्रति क्विंटल 1975 रुपए रखा गया है


प्रदेश में गोदाम का खाली ना होना इसका बड़ा कारण है। आपूर्ति निगम के अधिकारियों ने बताया कि इस बार बटाईदार किसानों का पंजीयन ऑनलाइन की जगह पंजीयन केंद्रों पर ही किया जाएगा। वहीं इसका सत्यापन तहसीलदारों से कराया जाएगा। शुरू हो रहे पंजीयन प्रक्रिया के साथ प्रदेश में गोदामों की खाली होने के बाद मार्च महीने से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी की जाएगी।

पिछले दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान दिल्ली की यात्रा पर थे। जहां उन्होंने केंद्र सरकार से मध्य प्रदेश के गोदामों में पड़े अनाज का उठाव के लिए सेंट्रल पुल से तेजी करने की मांग की थी। वहीं दूसरी तरफ खाद विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इस बार भी गेहूं की खरीदी काफी अच्छी होने की संभावना है। वहीं समर्थन मूल्य प्रति क्विंटल 1975 रुपए रखा गया है। वहीं अधिकारियों ने बताया कि इस साल 58 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में गेहूं की बोवनी हुई है

यह भी पढ़े : पूज्य श्री विठ्ठल रामानुज जी के प्रथम नगर आगमन पर साधौ निवास पर रत्नदीप मोयदे ने किया स्वागत

Rama Yadav

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *