इंदौर में रणजीत हनुमान की प्रभात फेरी में उमड़ा श्रद्धालुओ का सैलाब

इंदौर शहर के पश्चिम क्षेत्र में स्थित रणजीत हनुमान मंदिर में बुधवार रणजीत अष्टमी के अवसर पर रणजीत हनुमान मंदिर पर आस्था का उल्लास नजर आया। रणजीत हनुमान की प्रभात फेरी में शामिल होने हजारो भक्त कड़ाके की ठण्ड भी में मन्दिर पहुचे। इस दौरान सतत जय रणजीत का जयघोष लगाया जा रहा था। प्रभात फेरी में शामिल होने सुबह 4 बजे से ही भक्तो के जुटने का सिलसिला शुरू हो गया था।

इस अवसर पर विधि विधान से पूजा अर्चना के बाद रणजीत बाबा को फूलों से सजे रथ पर विराजित किया गया। उनके श्री विग्रह का 3 फीट की इलायची से बनी मद्रासी माला पहनाई गई थी। साथ ही मंदिर पर 11 क्विंटल फूलों से श्रृंगार किया गया था। भक्तों द्वारा लगातार जय रणजीत के जय घोष लगाए जा रहे थे। जनसमूह के चलते मंदिर परिसर में पैर रखने की जगह नहीं थी।
कोरोना के चलते इस बार रणजीत बाबा की प्रभात फेरी सिर्फ मंदिर परिसर में ही निकली गई।

रणजीत अष्टमी महोत्सव इसलिए मनाते हैं

प्रभात फेरी की तैयारी रात भर जय रणजीत भक्त मंडल के सदस्य कर रहे थे। रात 12:00 बजे तक बाबा की प्रभात फेरी की तैयारियों को अंतिम रूप दिया गया था। प्रभात फेरी के बाद 35000 अभिमंत्रित रक्षा सूत्र का वितरण शुरू हुआ। मुख्य पुजारी प. दीपेंद्र व्यास ने बताया कि हर साल यहां निकलने वाली प्रभात फेरी में हजारों की संख्या में लोग उमड़ते है। इस बार कोरोना के चलते मंदिर परिसर में यात्रा मन्दिर परिसर में निकली गई है। लोगों की आस्था है कि मंदिर ढाल और तलवार लिए हनुमानजी भक्तों को जीत का आर्शीवाद देते है।

रणजीत हनुमान 125 साल पुराना मंदिर है। इस पुराने मंदिर का परिसर चार एकड़ में है। रणजीत अष्टमी महोत्सव महोत्सव मनाने का कारण बताते हुए पंडित व्यास ने बताया कि रणजीत अष्टमी पर हनुमान जी सीता के लंका में होने की सूचना लेकर भगवान राम के पास पहुंचे थे। इस मौके पर भगवान राम ने हनुमान को गले लगाया था। इस अवसर के उपलक्ष में मंदिर पर रणजीत अष्टमी का पर्व मनाया जाता है। बाबा को भक्त रथ में बैठाकर भ्रमण कराते हैं।

यह भी पढ़े : सीएम शिवराजसिंह चौहान इंदौर में रहेंगे छह घंटे

Rama Yadav

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *