पुलिस-प्रशासन टीम ने अंधेरे में भू-माफिया के घर दी दबिश, कई हिरासत में

इंदौर। पुलिस-प्रशासन टीम ने अंधेरे में भू-माफिया के घर दी दबिश, कई हिरासत में। काली कमाई करने वालों के घर पुलिस-प्रशासन की टीम ने अंधेरी रात में दबिश दी। 200 से ज्यादा जवानों के साथ अधिकारियों ने करीब एक दर्जन ठिकानों पर दबिश दी, और माफिया को दबोचा। प्रदेश में चल रही भू-माफिया के खिलाफ मुहिम के अंतर्गत पुलिस प्रशासन ने देर रात 2 बजे इस बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है।

प्रशासन ने कार्रवाई के दौरान शहर के अलग-अलग थाना क्षेत्रों से ऐसे भू माफिया को दबोचा जो कि संस्था के नाम पर गरीबों को भूखंड देते थे। इस मामले में पुलिस ने छह लोगों पर केस दर्ज किया गया है। प्रशासन को लंबे समय से शिकायत मिल रही थी, कि देवी अहिल्या श्रमिक कार्यकाल ग्रह निर्माण सहकारी संस्था के कई सदस्यों को रजिस्ट्री के बाद भी अपनी जमीन का मालिकाना हक अब तक नहीं मिला है। लगातार मिल रही शिकायत के बाद देर रात 2 बजे 200 से अधिक पुलिसकर्मियों ने एक दर्जन अलग-अलग जगह जाकर छापामार कार्रवाई की और कई माफिया को हिरासत में लिया।

भू-माफिया पर गिरी पुलिस-प्रशासन की गाज

पुलिस अधिकारी डीआईजी मनीष कपूरिया ने बताया कि देर रात खजराना एमआईजी थाना क्षेत्र द्वारा रात 2:00 बजे 200 से अधिक पुलिसकर्मियों द्वारा भू-माफिया की तलाश में छापेमारी कार्रवाई शुरू की गई। पुलिस के दल ने मनीष पूरी विजयनगर बिचोली पल्सीकर कॉलोनी में छापामार कार्रवाई की। इस दौरान सीएसपी थाना प्रभारी सहित अन्य बल भी मौजूद था। एमआईजी टीआई विनोद दीक्षित की टीम ने मुकेश खत्री को विनय नगर से हिरासत में लिया है। एक अन्य टीम हैप्पी धवन के साकेत नगर के समीप स्थित निवास पर पहुंची, जहां देर रात छापेमारी कार्रवाई की गई।

देवी अहिल्या श्रमिक कामगार ग्रह निर्माण सहकारी संस्था के पदाधिकारियों द्वारा अयोध्या पुरी कॉलोनी काटी गई थी, जिसमें 306 सदस्य हैं। इसमें अधिकांश को प्लाट मिल चुके हैं। 2006 में संस्था के रणवीर सिंह सूदन ने इस संस्था की जमीन में से 5 एकड़ अन्य कंपनी को बेच दी थी। कंपनी के डायरेक्टर दीपक जैन मुद्दा ने एक अन्य को जमीन चार करोड़ ग्रुप में बेच दी थी, लेकिन जांच में पैसा संस्था में कोई हिसाब नहीं मिला। इसे लेकर विवाद लंबे समय से चल रहा था।

यह भी पढ़े : आईएएस अफसर को 8 करोड़ के मंडी टैक्स घोटाले में नहीं मिली हाई कोर्ट से राहत

Rama Yadav

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *