भारत में फुटबॉल की चर्चित इंडिया सुपर लीग में रविवार को एफसी गोवा एवं बंगलूरू के बीच मुकाबला

भारतीय फुटबॉल के सबसे बड़े टूर्नामेंट इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के नए सीजन की शुरुआत  शुक्रवार को हो गई है. कोरोना काल में आठ महीने बाद देश में किसी बड़े टूर्नामेंट की शुरुआत हुई. इस टूर्नामेंट के आयोजन के लिए कोरोना प्रोटोकॉल से जुड़े तमाम नियमों का पालन किया गया है. दर्शकों की गैरमौजूदगी में हुए उद्घाटन मुकाबले में एटीके मोहन बागान ने केरल ब्लास्टर्स को हरा दिया. अब सबकी नजर रविवार को होने वाले एफसी गोवा एवं बंगलूरू के बीच मुकाबले पर है.

एफसी गोवा टीम के लिए चीजें आसान नहीं होंगी

सबकी नजर रविवार को होने वाले मुकाबले में एफसी गोवा पर होगी.दो बार की रनर अप एफसी गोवा नए कोच और खिलाड़ियों के साथ उतरेगी. टीम में इस बार कई देसी और विदेशी खिलाड़ी शामिल हुए हैं और नए लुक वाली एफसी गोवा इस बार पिछले बार से बेहतर प्रदर्शन करना चाहेगी.

एफसी गोवा ने एक भी बार आईएसएल ट्राफी अपने नाम नहीं की है जबकि वह 2018 और 2015 में उप विजेता रही थी. लेकिन इस बार कोच जुआन फेरांडो की टीम के लिए चीजें आसान नहीं होंगी. फेरांडो चाहते हैं कि क्लब आक्रामक फुटबॉल खेलना जारी रखे जो वे अपने पूर्व कोच सर्गियो लोबेरा के मार्गदर्शन में खेलते थे.

एफसी बंगलूरू टीम खिताब के दावेदारों में शामिल

बंगलूरू की टीम एक बार आईएसएल का खिताब अपने नाम कर चुकी है और वह भी स्टार स्ट्राइकर सुनील छेत्री की अगुवाई में जीत के साथ शुरूआत करना चाहेगी. बंगलूरू टीम काफी बेहतरीन इकाई है और वह गोवा की टीम के लिए कड़ी प्रतिद्वंद्वी साबित होगी.

टॉप भारतीय और जांच परखे विदेशी खिलाड़ियों की मौजूदगी में कार्ल्स कुआड्रेट के मार्गदर्शन में खेलने वाली पूर्व चैंपयिन बेंगलुरू एफसी की टीम भी खिताब के दावेदारों में शामिल है. कुआड्रेट 2018-19 में खिताब जीतने वाली टीम के कई खिलाड़ियों को टीम से जोड़े रखने में सफल रहे हैं.

टीम में दो बार के गोल्डन ग्लव विजेता गुरप्रीत सिंह संधू और आईएसएल के शीर्ष भारतीय स्कोरर सुनील छेत्री के अलावा डिफेंडर युआनन और मिडफील्डर एरिक पार्तालु और दिमास डेलगाड जैसे खिलाड़ी शामिल हैं.

नवंबर से मार्च तक चलेगा टूर्नामेंट

नवंबर से मार्च तक चलने वाले इस टूर्नामेंट का आयोजन महामारी के कारण सिर्फ गोवा में किया जा रहा है. टूर्नामेंट में हिस्सा लेने वाली 11 फ्रेंचाइजियों को तीन ग्रुप में बांटा गया हैं. ग्रुप ए में चार जबकि ग्रुप बी और सी में तीन-तीन टीमें होंगी.

यह भी पढ़े: दक्षिण भारत; चर्चित ट्रांसजेंडर अप्सरा रेड्डी ने AIADMK पार्टी का हाथ थाम लिया

Poorvi Surana

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *