30 नवंबर 2020 को साल का अंतिम चंद्रग्रहण

साल के अंतिम चंद्र ग्रहण की शुरुआत सोमवार को ठीक 1 बजकर 04 मिनट पर हुई. यह चंद्र ग्रहण सोमवार की शाम 5 बजकर 22 मिनट तक रहेगा. इस बीच दोपहर बाद 3 बजकर 13 मिनट पर चंद्र ग्रहण अपने चरम पर होगा. इस दौरान उपछाया चंद्रग्रहण का प्रभाव कुल 4 घंटे 18 मिनट और 11 सेकंड तक भारत में रहेगा.

वहीं, इस दौरान सूतक काल नहीं लगेगा, ऐसे में भारत में लोग निश्चिंत होकर अपने धार्मिक और शुभ काम सकेंगे. ये चंद्र ग्रहण पूर्णिमा तिथि को रोहिणी नक्षत्र और वृषभ राशि में होगा. कार्तिक मास की पूर्णिमा को इस साल का अंतिम चंद्रग्रहण हालांकि उपछाया चंद्रग्रहण होने से इसका कोई सूतक काल नहीं होगा. ग्रहण के बावजूद सभी धार्मिक और मांगलिक काम किए जा सकेंगे. 

भारत में यह चंद्र ग्रहण दिखाई नहीं देगा

यह चंद्रग्रहण दोपहर 3:13 मिनट पर अपने चरम पर होगा. इस बार लग रहे उपछाया ग्रहण से सूतक का कोई प्रभाव नहीं होगा. भारत में यह चंद्र ग्रहण दिखाई नहीं देगा. आम दिनों की तरह पूरे देश में मंदिर और अन्य धार्मिक स्थल खुले रहेंगे. इसके साथ ही कोरोना वायरस संक्रमण के नियमों का पालन करते हुए सभी धार्मिक कार्यक्रम जारी रहेंगे. मंदिरों में इस दिन देव भगवान विष्णु के योग निद्रा से जागने की खुशी में दीप जलाए जाएंगे. कोविड-19 की सतर्कता को लेकर सुरक्षा नियमों के पालन का भी ख्याल रखा जाए.

चंद्रग्रहण का प्रभाव कुल 4 घंटे 18 मिनट और 11 सेकंड रहेगा

  • चंद्र ग्रहण की शुरुआत: 30 नवंबर 2020 की दोपहर 1:04 बजे.
  • मध्यकाल: 30 नवंबर 2020 की दोपहर 3:13 बजे.
  • ग्रहण की समाप्ति : 30 नवंबर 2020 की शाम 5:22 बजे.

ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक, साल के अंतिम चंद्र ग्रहण की यह खगोलीय घटना सोमवार दोपहर 1 बजकर 4  मिनट से शुरू होकर शाम 5 बजकर 22 मिनट तक चलेगी. यह चंद्रग्रहण अमेरिका, प्रशांत महासागर, एशिया और आस्ट्रेलिया में तो दिखाई देगा, लेकिन भारत में यह नहीं दिखेगा.

यह भी पढ़े:वरुण धवन की आने वाली फिल्म कुली नंबर 1 के ट्रेलर को लांच किया गया

Poorvi Surana

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *